ICFA का पहला ‘विश्व कृषि सम्मान’ हरित क्रांति के जनक एम एस स्वामीनाथन को, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने किया सम्मानित

डेयरी टुडे नेटवर्क,
नई दिल्ली, 26 अक्तूबर 2018,

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कृषि वैज्ञानिक एम एस स्वामीनाथन को कृषि क्षेत्र का ‘विश्वगुरु’ बताते हुये कहा कि उन्होंने बतौर शिक्षक अपनी विद्वता से विश्व को वैचारिक प्रेरणा से प्रभावित किया है। नायडू ने शुक्रवार को भारतीय खाद्य एवं कृषि परिषद की ओर से शुरु किये गये पहले विश्व कृषि सम्मान से स्वामीनाथन को पुरस्कृत करते हुये कहा कि आधुनिक भारत के महान कृषि वैज्ञानिक को सम्मानित करना उनके लिये गर्व की बात है। उन्होंने कहा कि भारत में खाद्य सुरक्षा को सुनिश्चित करने में स्वामीनाथन की पहल पर हुयी हरित क्रांति का अहम योगदान रहा। विश्व कृषि सम्मान के तहत डॉ.एम एस स्वामीनाथन को 1 लाख डालर(लगभग 70 लाख रुपये) रुपये प्रदान किए गए हैं।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भारत सहित दुनिया के अन्य भागों में कृषि को बढ़ावा देने की जरूरत पर बल देते हुये कहा कि कृषि क्षेत्र में विकास दर में तेजी लाने के लिये विभिन्न मोर्चों पर समन्वय के साथ समग्र और साझा कार्रवाई करना जरूरी है। जिससे कृषि क्षेत्र पर निर्भर लोगों के जीवन स्तर में सुधार लाया जाये। उपराष्ट्रपति ने कि मौजूदा दौर में कृषि को सतत रूप से और अधिक लाभ का सौदा बनाना मुख्य चुनौती है। उन्होंने कहा कि कृष उपज के रूप में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा देश होने के नाते भारत को कृषि क्षेत्र में सुधारों के नेतृत्व की कमान संभालनी होगी।

995total visits.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें