इलाहाबाद: बंद होगी देश की पहली आर्मी डेयरी, कर्मचारियों में गुस्सा

डेयरी टुडे नेटवर्क
इलाहाबाद, 14 अगस्त 2017,

केंद्र सरकार ने देशभर में मौजूद सेना के 39 डेयरी फार्म बंद करने का फरमान सुनाया है। अगले तीन महीनों में इन सभी डेयरी फार्मों को बंद करना है। इसी आदेश के तहत इलाहाबाद में जवानों को शुद्ध दूध मुहैया कराने वाली देश की पहली आर्मी डेयरी भी बंद होने जा रही है। भारत सरकार ने तीन माह के अंदर इस डेयरी को पूर्ण रूप से बंद करने का निर्देश भी दे दिया है। मौजूदा समय में इस डेयरी में फ्रीसवाल प्रजाति की कुल छह सौ गायें हैं।

1889 में स्थापित हुई थी इलाहाबाद मिलिट्री डेयरी

आज से 128 वर्ष पहले यानि वर्ष 1889 में अंग्रेजों ने अपनी सेना के जवानों को दूध उपलब्ध कराने के लिए शहर के पश्चिमी छोर पर चौफटका के पास इस डेयरी की स्थापना की थी। उन दिनों अंग्रेजों द्वारा यहां महज 10 गायें रखी गई थी। यह भवन आज भी उसी तरह सुरक्षित है। भारत आजाद हुआ तो भी यह डेयरी संचालित होती रही। यहां गायों की संख्या कई गुना बढ़ा दी गई, जो वर्तमान में छह सौ चुकी है, जिनकी कीमत करीब ढाई सौ करोड़ रुपये है। 200 से अधिक कर्मचारी व श्रमिक इस डेयरी में इन गायों की देखरेख करते हैं। यह इनकी आजीविका का साधन भी है। अच्छी खासी चल रही इस डेयरी को सरकार ने बंद करने का निर्णय लिया है। बीते माह निर्देश जारी किया गया कि तीन माह के अंदर इन गायों की नीलामी कर दी जाय और डेयरी बंद कर दी जाय। सूत्रों की माने तो सरकार प्राइवेट डेयरी को बढ़ावा देना चाहती है इसलिए इसे बंद करने जा रही है।

700 एकड़ में फैली है मिलिट्री डेयरी

इलाहाबाद की आर्मी मिलिट्री डेयरी काफी बड़ी है और करीब 700 एकड़ जमीन पर फैली हुई है। इस डेयरी में उच्च प्रजाति की फ्रीजवाल नस्ल की 600 गाएं हैं। ये गाएं रोजना पैंतीस से चालीस लीटर दूध देती हैं। प्रतिवर्ष इस डेयरी में 10.50 लाख लीटर से ज्यादा दूध का उत्पादन होता है। इस डेयरी में 200 कर्मचारी और श्रमिक कार्यरत हैं। इस डेयरी में मौजूद गायों की कीमत करीब 250 करोड़ बताई जा रही है। इस आर्मी डेयरी के सौ वर्ष पूरे होने पर एक फरवरी 1989 को शताब्दी वर्ष समारोह मनाया गया था। इसमें तत्कालीन रक्षा राज्यमंत्री चिंतामणि बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए थे।

डेयरी बंद करने के आदेश से कर्मचारियों में गुस्सा

केंद्र सरकार के आर्मी डेयरी को बंद करने के फरमान से यहां काम करने वाले कर्मचारियों और उनके परिजनों में खासी नाराजगी है। इसके विरोध में कर्मचारियों ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन भी किया है। इनकी मांग है कि इस डेयरी को चालू रखा जाए। वहीं आर्मी डेयरी के मैनेजर राजेश कुमार का कहना है कि सरकार ने तीन महीने के भीतर डेयरी को बंद करने का निर्देश दिया है। और जल्द ही इन गायों को नीलाम करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी।

 

2315total visits.

2 thoughts on “इलाहाबाद: बंद होगी देश की पहली आर्मी डेयरी, कर्मचारियों में गुस्सा”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें