कोरोना संकट: पशुपालन और Dairy Sector को तत्काल राहत के लिए वित्त मंत्री से मिले डेयरी मिनिस्टर गिरिराज सिंह

डेयरी टुडे नेटवर्क,
नई दिल्ली, 20 मार्च 2020,

कोरोना वायरस के संकट ने देश के हर सेक्टर में हलचल मचा दी है। डेयरी, पशुपालन और फिशरीज सेक्टर पर भी कोरोना की मार पड़ी है। संकट में घिरे पशुपालन और डेयरी सेक्टर को उबारने के लिए केंद्रीय पशुपालन, डेयरी और मत्स्यपालन मंत्री गिरिराज सिंह ने शुक्रवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण से मुलाकात की। बैठक में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने पशुपालन उद्योग के लिये कर्ज पुनर्गठन समेत अन्य क्षेत्रों को प्रोत्साहन उपायों को लेकर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के साथ चर्चा की। कोरोना वायरस के प्रभाव से निपटने के लिये आर्थिक प्रतिक्रिया कार्यबल के गठन के बाद पहली बैठक में उन्होंने अपनी बात रखी।

बैठक के बाद पशुपालन, मत्स्य और डेयरी मंत्री गिरिराज सिंह ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘कोरोना वायरस महामारी के कारण पशुपालन उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुआ है। हमने वित्त मंत्री से विभिन्न उपायों पर चर्चा की। इसमें कर्ज पुनर्गठन शामिल है। इससे क्षेत्र में कार्यरत लोगों को मदद मिल सकती है। देश का कुक्कुट उद्योग 1.5 लाख करोड़ रुपये का है। दस लाख से अधिक छोटे किसान सीधे तौर पर इस क्षेत्र में काम कर रहे हैं जबकि करोड़ों लोग परोक्ष रूप से इस क्षेत्र पर आश्रित हैं।’’

Read also: कोरोना वायरस के कारण Amul के चिलिंग सेंटर बंद होने की खबर झूठी : आर एस सोढ़ी, एमडी अमूल

श्री गिरिराज सिंह ने कहा, ‘‘ वित्त मंत्री से सभी मुद्दों पर विस्तार से चर्चा हुई। वित्त मंत्री ने सकारात्मक जवाब दिया। हम सकारात्मक कदम उठाये जाने की उम्मीद कर रहे हैं।’’ वित्त मंत्री के साथ बैठक में केंद्र सरकार के पशुपालन और डेयरी सचिव अतुल चतुर्वेदी, मत्स्यपालन सचिव राजीव रंजन भी मौजूद थे।

बैठक के बाद वित्त मंत्री निर्माला सीतारमण ने कहा, ”मैंने पर्यटन, एमएसएमई, नागर विमानन, पशुपालन क्षेत्रों के साथ बैठक की। इन मंत्रालयों ने संबंधित पक्षों के साथ विचार-विमर्श के बाद अपने-अपने क्षेत्रों के बारे में आकलन दिए।” वित्त मंत्री ने कहा, ”वित्त सचिव और आर्थिक मामलों के सचिव की मौजूदगी में हमने विस्तार से चर्चा की। हम उनके सुझावों को देख रहे हैं।”

Read also: Success Story: कॉर्पोरेट की नौकरी छोड़ खोला Dairy Farm, गुवाहाटी में 80 रु. लीटर बिक रहा है गाय का शुद्ध दूध

जाहिर है कि इससे पहले श्री गिरिराज सिंह ने कहा था कि सोशल मीडिया पर अफवाह के कारण मांग और कीमतों में गिरावट से कुक्कुट उद्योग को काफी नुकसान हुआ है। सोशल मीडया पर यह अफवाह है कि अंडा और चिकेन खाने से कोरोना वायरस फैलता है जबकि इसमें कुछ भी सचाई नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मादी ने कोरोना वायरस से प्रभावित क्षेत्रों को राहत पैकेज देने पर विचार के लिये बृहस्पतिवार को आर्थिक प्रतिक्रिया कार्यबल के गठन की घोषणा की थी। कोरोना वायरस के कारण प्रभावित क्षेत्रों के मंत्री वित्त मंत्री के साथ विभिन्न मुद्दों पर चर्चा कर रहे हैं। वित्त मंत्री कार्यबल की प्रमुख हैं।

निवेदन:– कृपया इस खबर को अपने दोस्तों और डेयरी बिजनेस, Dairy Farm व एग्रीकल्चर सेक्टर से जुड़े लोगों के साथ शेयर जरूर करें..साथ ही डेयरी और कृषि क्षेत्र की हर हलचल से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज https://www.facebook.com/DAIRYTODAY/ पर लाइक अवश्य करें। हमें Twiter @DairyTodayIn पर Follow करें।

424total visits.

5 thoughts on “कोरोना संकट: पशुपालन और Dairy Sector को तत्काल राहत के लिए वित्त मंत्री से मिले डेयरी मिनिस्टर गिरिराज सिंह”

  1. Milk factory madhushudan ने किसान से लेने वाले दुध के rate मे 7₹ पर लीटर की कमी कर दी, किसान कैसे काम करेगा, या तो ये sale prise भी कम करते, पर सब मुनाफा खोर है

  2. भारतीय कृषकों के लिये राहत देने वाला समाचार।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें