अमेरिकी Dairy Product के लिए भारत खोलेगा अपने बाजार, ट्रंप के दौरे के समय हो सकती है डील

Share

डेयरी टुडे नेटवर्क,
नई दिल्ली, 14 फरवरी 2020,

भारत सरकार ने अमेरिका से लिए अपने डेयरी और पॉल्ट्री बाजार को खोलने का फैसला किया है। भारत में 8 करोड़ परिवारों के लिए पशुपालन इनकम का मुख्य साधन है। ऐसे में टैरिफ छूट के साथ अमेरिकी एंट्री से पशुपालकों पर क्या असर होगा, भारतीय डेयरी उद्योग पर क्या असर होगा इस पर चर्चा शुरू हो गई है। जाहिर है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप 24 फरवरी को भारत आ रहे हैं। उम्मीद की जा रही है कि दोनों देशों के बीच ट्रेड डील की दिशा में बात आगे बढ़ेगी। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, भारत सरकार ने अमेरिका के लिए अपने डेयरी और पॉल्ट्री बाजार को खोलने का फैसला किया है।

इसे भी पढ़ें : ओडिशा के दो युवा इंजीनियरों को सलाम, जिन्होंने Farmtree App से Dairy किसानों की मुश्किलों को किया आसान

 

सरकारी सूत्रों के मुताबिक, भारत सरकार ने अमेरिका से चिकन लेग्स ऐंड टर्की, ब्लूबेरी और चेरी आयात को मंजूरी देने का फैसला किया है। चिकन लेग्स पर 100 फीसदी के मुकाबले केवल 25 फीसदी टैरिफ लगेगा, हालांकि अमेरिका चाहता है कि इसपर केवल 10 फीसटी टैरिफ लगे। डेयरी मार्केट में भी अमेरिका की एंट्री हो सकती है।

भारत विश्व में दूध का सबसे बड़ा उत्पादक है। ग्रामीण इलाकों में रहने वाले करीब 80 मिलियन (8 करोड़) परिवारों के लिए पशुपालन जीवन का आधार है। इसलिए भारत ने इस बाजार को विदेशी पहुंच से अब तक दूर रखा था, लेकिन पीएम मोदी नहीं चाहते हैं कि अमेरिका के साथ उसके व्यापारिक रिश्ते और कमजोर हो।

इसे भी पढ़ें : पंजाब के कंप्यूटर इंजीनियर सुखवंत ने खोला डेयरी फार्म, हर महीने कमाते हैं 1.5 लाख रुपये

 

डॉनल्ड ट्रंप ने 2019 में भारत को मिले GSP (जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रेफरेंस) दर्जा वापस ले लिया था, जिससे करीब 5 अरब डॉलर के निर्यात पर असर पड़ा था। हाल ही में अमेरिका ने भारत को उन विकासशील देशों की सूची से हटा दिया है, जिन्हें अमेरिकी की काउंटरवेलिंग ड्यूटी (CVD) से छूट हासिल है। यह छूट देने के लिए यह देखा जाता है कि ये देश सब्सिडी एक्सपोर्ट के जरिए अमेरिकी इंडस्ट्री को नुकसान तो नहीं पहुंचा रहे हैं।

इसे भी पढ़ें : अमेरिका में Dairy Industry पर संकट, लगातार कम हो रही है दूध की खपत

 

व्यापार की बात करें तो अमेरिका चीन के बाद भारत का सबसे बड़ा ट्रेड पार्टनर है। 2018 में दोनों देशों के बीच ट्रेड 142.60 अरब डॉलर पर पहुंच गया था। 2019 में अमेरिका का भारत के साथ गुड्स ट्रेड डेफिसिट (व्यापार घाटा) 23.20 अरब डॉलर का रहा था।

निवेदन:– कृपया इस खबर को अपने दोस्तों और डेयरी बिजनेस, Dairy Farm व एग्रीकल्चर सेक्टर से जुड़े लोगों के साथ शेयर जरूर करें..साथ ही डेयरी और कृषि क्षेत्र की हर हलचल से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज https://www.facebook.com/DAIRYTODAY/ पर लाइक अवश्य करें। हमें Twiter @DairyTodayIn पर Follow करें।

Share

2112total visits.

2 thoughts on “अमेरिकी Dairy Product के लिए भारत खोलेगा अपने बाजार, ट्रंप के दौरे के समय हो सकती है डील”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें