नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड पांच साल और करेगा WAMUL का प्रबंधन, असम सरकार की मंजूरी

डेयरी टुडे नेटवर्क
नई दिल्ली, 7 अगस्त 2021,

राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) अगले पांच वर्षों तक पश्चिम असम दुग्ध उत्पादक सहकारी संघ लिमिटेड (वामुल) का प्रबंधन और करेगा। एनडीडीबी ने एक बयान में कहा कि असम सरकार ने वामुल के एनडीडीबी प्रबंधन की समयसीमा को बढ़ा दिया है। एनडीडीबी के अध्यक्ष मीनेश शाह ने 6 अगस्त को असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा से मुलाकात की। असम सरकार ने एनडीडीबी से वामुल का प्रबंधन करने का अनुरोध किया था, जो बंद होने के कगार पर था। एनडीडीबी ने वर्ष, 2008 में प्रबंधन संभाला था।

एनडीडीबी के बयान में कहा गया है, ‘‘डेयरी सहकारी संस्था को बहाल करने/पुनर्जीवित करने में एनडीडीबी के हस्तक्षेप के प्रभाव को ध्यान में रखते हुए असम सरकार ने एनडीडीबी के वामुल के प्रबंधन को पांच साल की अवधि के लिए आगे और बढ़ाने को मंजूरी दे दी है।’’ इस आशय के एक समझौते पर भी 6 अगस्त, 2021 को हस्ताक्षर किए गए थे।

एनडीडीबी अध्यक्ष मीनेश शाह ने कहा कि असम के ग्रामीण दूध उत्पादकों के हितों की रक्षा के लिए एनडीडीबी प्रतिबद्ध है। आपको बता दें कि वर्तमान में वामुल 13,916 डेयरी किसानों से 41,000 किलोग्राम दूध की औसत दैनिक मात्रा खरीदता है। आज, ब्रांड “पूरबी” प्रतिदिन लगभग 64,000 लीटर दूध की बिक्री करता है। हालांकि, कोविड 19 महामारी के कारण इसके बाजार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा, फिर भी वामूल ने रु. 120 करोड़ (31 मार्च 2021 तक) का बिक्री कारोबार हासिल किया है। एनडीडीबी और इसकी सहायक कंपनियां पहले से ही असम की डेयरी विकास गतिविधियों से जुड़ी हुई हैं।

एनडीडीबी के अध्यक्ष श्री शाह ने श्री अतुल बोरा, कृषि, बागवानी, पशुपालन एवं पशु चिकित्सा, सीमा क्षेत्र विकास, असम समझौता कार्यान्वयन, सहकार मंत्री, असम सरकार से भी मुलाकात की और डेरी विकास के विभिन्न पहलुओं के बारे में चर्चा की तथा ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए एक रोड मैप तैयार किया।

707total visits.

One thought on “नेशनल डेयरी डेवलपमेंट बोर्ड पांच साल और करेगा WAMUL का प्रबंधन, असम सरकार की मंजूरी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें