सफल डेयरी किसान बलिंदर ढुल के फार्म में रोजाना 600 लीटर दुग्ध उत्पादन, कमाई लाखों में

Share

नवीन अग्रवाल, डेयरी टुडे नेटवर्क,
कैथल (हरियाणा), 26 जुलाई 2020,

डेयरी फार्मिंग को अगर पूरी प्लानिंग और प्रोफेशनल तरीके से किया जाए तो इसमें किसी भी और बिजनेस से अधिक कमाई होती है। डेयरी टुडे में हमारी कोशिश ऐसे ही प्रगतिशील डेयरी फार्मर्स (Progressive Dairy Farmers) की सफलता की कहानी (Success Story) आपके सामने लाने की होती है। आज ‘डेयरी के सुल्तान’ में हम लेकर आए हैं हरियाणा के कैथल के प्रगतिशील डेयरी किसान बलिंदर सिंह ढुल। बलिंदर ने अपने छोटे भाई जसविंदर ढुल के साथ मिलकर कैथल में डेयरी फार्मिंग, मिल्क और डेयरी प्रोडक्ट्स की बिक्री का जो मॉडल खड़ा किया है, वो एक मिसाल है।

Reas also: शौक ने बनाया गुजरात के मोहम्मद कैफ को सफल डेयरी किसान, जानिए हर महीने कितनी है कमाई

2014 में 7 मुर्रा भैंस के साथ शुरू किया डेयरी फार्म

जहां दूध-दही का खाना, नंबर वन हरियाणा, जी हां हरियाणा राज्य की यही पहचान है। और प्रोफेशनल डेयरी फार्मर बलिंदर सिंह ढुल अपनी मेहनत और काबिलियत के बल पर इस कहावत को चरितार्थ कर रहे हैं। बलिंदर बताते हैं कि जब वो ग्रेजुएशन के बाद एमए की पढ़ाई कर रहे थे, तभी वे नौकरी करने के बजाए अपना ही कुछ काम करना चाहते थे। चूंकि बलिंदर का परिवार खेती-बाड़ी की पृष्ठभूमि से जुड़ा है, गांव में उनके पास खेत भी हैं और पहले पशुपालन भी होता। इसलिए बलिंदर ने सोचा क्यों न पशुपालन और डेयरी फार्मिंग के क्षेत्र में ही किस्मत अजमाई जाए। बलिंदर ढुल ने बताया कि कैथल शहर से थोड़ी दूर पर ही उनका पैतृक गांव हैं, जिसका नाम है हरसोला। गांव में बलिंदर की 8 एकड़ खेती की जमीन थी। बलिंदर ने इसी जमीन पर डेयरी फार्म खोलने का फैसला कर लिया। इसके लिए उन्होंने कैथल के कृषि ज्ञान केंद्र से डेयरी फार्मिंग की ट्रेनिंग ली और फिर फरवरी 2014 में 5 मुर्रा भैंस खरीद कर एक एकड़ जमीन पर डेयरी फार्म शुरू कर दिया। बलिंदर के इस फैसले का उनके रिश्तेदारों ने खूब मजाक उड़ाया, लेकिन उन्होंने अपना हौसला नहीं खोया और पूरी मेहनत के साथ डेयरी फार्म को बढ़ाने में लगे रहे।

Reas also: गिर गाय के डेयरी फार्म से लाखों की कमाई, प्रगतिशील किसान प्रतीक रावल की Success Story

आज हैं बलिंदर के फार्म में 150 से ज्यादा गाय और भैंस

युवा डेयरी किसान बलिंदर ढुल की मेहनत का ही नतीजा था कि धीरे-धीरे डेयरी फार्म आस-पास के इलाकों में फेमस हो गया और उनके फार्म के क्वालिटी मिल्क की डिमांड बढ़ने लगी। डेयरी फार्मिंग से बिजनेस से कमाई बढ़ने के साथही प्रगतिशील डेयरी किसान बलिंदर ढुल का जोश बढ़ता गया और उन्होंने पशुओं की संख्या बढ़ाना शुरू कर दिया। आज बलिंदर ढुल के डेयरी फार्म में 90 अच्छी नस्ल की मुर्रा भैंस हैं, जबकि 63 अच्छी और क्रास ब्रीड नस्ल की गाय हैं। इसके साथ ही बलिंदर के डेयरी फार्म में बड़ी संख्या में अच्छी नस्ल की बछड़ियां भी हैं।

Reas also: युवा डेयरी किसान राहुल शर्मा की Success Story, हर महीने 80 हजार रुपये की कमाई!

बलिंदर के डेयरी फार्म में रोजाना होता है 600 लीटर दूध

पांच मुर्रा भैंसों से शुरू हुआ बलिंदल ढुल का सफर आज जहां 150 से अधिक दुधारु पशुओं तक पहुंच गया है, वहीं दूध का उत्पादन भी 600 लीटर प्रतिदिन होता है। सर्दियों के समय में दूध का उत्पादन और बढ़ जाता है। डेयरी टुडे से बातचीत के दौरान युवा डेयरी किसान बलिंदर ढुल ने बताया कि वो अपने फार्म में पशुओं की देखभाल से कभी समझौता नहीं करते हैं। पशुओं को चारा, दाना आदि खिलाने का पूरा ध्यान रखा जाता है। पशुओं के लिए हरा चारा वो अपने खेत में ही उगाते हैं साथ ही पशुओं के लिए दाना भी खुद तैयार करवाते हैं। बलिंदर के मुताबिक पशुओं के दाने में सरसों की खली, बिनौला, सोयाबीन, मक्का, गेहूं, मिनरल मिक्सर समेत तमाम चीजें मिलाते हैं। इस दाने को खाने से जहां गाय और भैंस सेहतमंद रहती हैं, वहीं दुग्ध का उत्पादन भी बढ़ जाता है। बलिंदर ने बताया कि वो पशुओं के स्वास्थ्य की देखभाल पर भी खासा ध्यान देते हैं। डेयरी फार्म में पशुओं को रखने के लिए काफी बड़े क्षेत्र में शेड बना हुआ है। उन्होंने बताया कि पशुओं को सिर्फ मिल्किंग और चारा खिलाने के लिए बांधा जाता है बाकी वक्त गाय और भैंस पूरे फार्म में खुले घूमते हैं। बलिंदर ने अपने फार्म पर 7.5 किलोवाट का सोलर प्लांट लगाया है। उनके फार्म पर 4 मिल्किंग मशीन (Milking Machine) हैं और 1200 लीटर का बल्कि मिल्क कूलर(BMC) भी लगा है।

Reas also: आईटी की नौकरी छोड़ खोला Dairy Farm, दिल्ली-NCR में इनकी गीर गायों के A2 Milk की है जबरदस्त मांग

दूध बेचकर हर महीने कमाते हैं 2 से 2.5 लाख रुपये

31 वर्ष के प्रगतिशील डेयरी किसान बलिंदर ढुल ने बताया कि उनके फार्म में औसतन 600 लीटर दूध का रोजाना उत्पादन होता है। बलिंदर ने बताया कि वे गाय का दूध नेस्ले इंडिया कंपनी को 35 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से बेचते हैं, जबकि भैंस का दूध सीधे एक कंपनी को देते हैं, जो डेयरी प्रोडक्ट बनाकर बेचती है। 7.5 एसएनएफ वाले भैंस के दूध के उन्हें 60 रुपये प्रतिलीटर मिलते हैं। इनता ही नहीं बलिंदर ने ‘Village Proud’ नाम से अपना डेयरी ब्रांड भी रजिस्टर कराया है और इसी नाम से अपने फार्म का दही बनाकर मार्केट में बेचते हैं। बलिंदर ने डेयरी प्रोडक्ट बनाने के लिए एनडीआरआई करनाल से ट्रेनिंग भी ली है। बलिंदर के मुताबिक उन्हें सारा खर्च निकाल कर हर महीने दो से ढाई लाख रुपये की बचत होती है। डेयरी फार्मिंग के कार्य में बलिंदर के छोटे भाई जसविंद ढुल भी बराबर साथ देते हैं। फार्म पर कुछ लेबर को भी रखा गया है और दोनों भाई मिलकर फार्म का बेहतर तरीके से संचालन करते हैं। बलिंदर ढुल का कहना है कि वे जल्द ही कैथल में अपना स्वीट काउंटर खोलने वाले हैं, जहां वे अपने फार्म के दूध की मिठाइयां बनाकर बेचेंगे। बलिंदर के मुताबिक कोरोना महामारी के चलते पिछले महीनों में काफी नुकसान हुआ है लेकिन अब हालात धीरे-धीरे ठीक हो रहे हैं।

Reas also: Success Story: दो दोस्तों ने कॉर्पोरेट की नौकरी छोड़ खोला Dairy Farm, जानिए हर महीने कितना कमाते हैं

गाय की ब्रीडिंग के कार्य में लगे हैं बलिंदर

बलिंदर ढुल अपने फार्म में सिर्फ दूध का उत्पादन नहीं करते बल्कि गाय की नस्ल सुधारने के काम भी लगे हुए हैं। बलिंदर ने एचएफ गायों के लिए अमेरिका से सीमन मंगाया है और उनके मुताबिक इससे तैयार हुईं बछड़ियां आने वाले वक्त में रोजाना 35 से 40 लीटर तक दूध देंगी। बलिंदर के ब्रीडिंग के क्षेत्र में काम को देखते हुए अब आस-पास के गांव के लोग भी उससे सलाह लेने आते हैं।

Reas also:  इंदौर की पल्लवी व्यास ने डेयरी फार्मिंग में लहराया सफलता का परचम, जानिए कैसे

डेयरी फार्मिंग के धंधे में आने वालों को बलिंदर का सक्सेस मंत्र

सफल डेयरी किसान बलिंदर सिंह ढुल के मुताबिक आज बाजार में शुद्ध दूध की कमी है, लोग शुद्ध दूध की कुछ भी कीमत देने को तैयार है। बलिंदर इस क्षेत्र में आने वाले युवाओं को भी अपने अनुभव से पूरी जानकारी देते हैं। उनका कहना है कि बड़ी संख्या में हरियाणा, पंजाब और दूसरे राज्यों से लोग उनसे डेयरी फार्मिंग के बारे में जानकारी लेने आते हैं, और वे उन्हें डेयरी फार्मिंग की पूरी इकोनॉमिक्स समझाते हैं। बलिंदर के मुताबिक डेयरी फार्म शुरू करने वालों को शुरुआत में दूध सीधे ग्राहकों को बेचना चाहिए, इससे अच्छे रेट मिलते हैं। इसके साथ ही डेयरी फार्म की शुरुआत में शेड आदि बनाने पर अधिक खर्च नहीं करना चाहिए, बल्कि अच्छी नस्ल के पशुओं पर खर्च करना चाहिए। इसके साथ ही पशुओं के फीड का पूरा ध्यान रखना चाहिए और उनके लिए चौबीस घंटे पानी की सुविधा होनी चाहिए।

Reas also:  जानिए डेयरी किसान दयाराम दूध बेचने के अलावा करते हैं कौन सा काम, जिससे बढ़ती है इनकम

Note:– कृपया इस खबर को अपने दोस्तों और डेयरी बिजनेस, Dairy Farm व एग्रीकल्चर सेक्टर से जुड़े लोगों के साथ शेयर जरूर करें..साथ ही डेयरी और कृषि क्षेत्र की हर हलचल से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज https://www.facebook.com/DAIRYTODAY/ पर लाइक अवश्य करें। हमें Twiter @DairyTodayIn पर Follow करें।

Share

587total visits.

3 thoughts on “सफल डेयरी किसान बलिंदर ढुल के फार्म में रोजाना 600 लीटर दुग्ध उत्पादन, कमाई लाखों में”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें