सुधा डेयरी ने दूध और डेयरी उत्पादों के रेट बढ़ाए, महंगा हुआ पनीर, पेड़ा और गुलाब जामुन

डेयरी टुडे नेटवर्क,
पटना, 10 नवंबर 2021,

बिहार में आम लोगों पर एक बार फिर से महंगाई की मार पड़ने वाली है. प्रदेश में दूध (Milk) की कीमतों में एक बार फिर से इजाफा हुआ है. प्रदेश में सुधा ब्रांड के दूध (Sudha Brand Milk) के दामों में बढ़ोतरी की गई है. अब ग्राहकों को प्रति लीटर 3 से 4 रुपए ज्यादा रुपए चुकाने होंगे. इसके साथ ही सुधा ब्रांड के पनीर, मिल्क केक, पेड़ा, गुलाब जामुन और बालूशाही महंगा हो गया है. वहीं, पनीर का 200 ग्राम का प्रति पैकेट 5 रुपए और 1 किलो गुलाम जामुन की कीमत में 10 रुपए की वृद्धि की गई है. इन उत्पादों की नई दरें 11 नवंबर से लागू होंगी. वहीं घी, लस्सी, दही के सभी प्रकार, मक्खन और फ्लेवर्ड मिल्क की कीमत में बढ़ोतरी नहीं की गई है.

दरअसल, बिहार राज्य दुग्ध सहकारी संघ लिमिटेड (COMFED) ने सुधा दूध (Sudha Milk) के उत्पादों की नई रेट लिस्ट जारी की गई है. वहीं, दूध के आधा लीटर पैकेट पर 2 रुपए की वृद्धि की गई है. COMFED ने जारी आदेश में कहा है कि दूध उत्पादकों की लंबे समय से मांग थी कि उन्हें दी जाने वाली कीमत में वृद्धि की जाए.

इसी को देखते हुए कॉम्फेड प्रोग्रामिंग कमिटी की बैठक, जिसमें सभी संघों के प्रबंध निदेशक उपस्थित थे, में दूध संग्रहण और पैकेट बंद सुधा दूध के रेटों में बढ़ोत्तरी करने का फैसला लिया गया है. इसके पहले 7 फरवरी, 2021 को सुधा के उत्पाद की कीमत बढ़ाई थी.

गौरतलब है कि दूध उत्पादकों को दी जाने वाली राशि में प्रति किलो दूध पर 2 रुपये 32 पैसे की वृद्धि की गई है, जो अब 33 रुपए 25 पैसे हो जाएगा. यह बढ़ोत्तरी 4 प्रतिशत फैट एवं 8.5 प्रतिशत NNF के दूध कीमत पर उत्पादकों को मिलेगा. इसी प्रकार 6 प्रतिशत फैट एवं 9 प्रतिशत NNF के दूध पर उत्पादकों को अब 40 रुपए 20 पैसा प्रति किलो दिया जाएगा.

बता दें कि इससे पहले, 7 फरवरी 2021 को सुधा दूध की कीमतों में बढ़ोतरी की गई थी. वहीं, राज्य में कुल खपत में सुधा मिल्क की हिस्सेदारी ज्यादा होने से बड़ी आबादी को महंगाई की मार झेलनी पड़ेगी. इस दौरान बढ़ी हुई कीमत में 46 रुपए प्रति लीटर के दूध के लिए 49 रुपए तो 43 रुपए के दूध के लिए 46 रुपए चुकाने होंगे. वहीं, आधा लीटर के पैकेट पर 2 रुपए की बढ़ोतरी की गई थी. सुधा ने अपने अन्य प्रोडक्ट के रेट भी बढ़ाए हैं. सुधा पनीर के 200 ग्राम के पैकेट का मूल्य पांच रुपए बढ़ गया था. हालांकि दही और घी के दामों में वृद्धि नहीं की गई थी.

कॉम्फेड ने कहा है कि यह वृद्धि दूध उत्पादकों को बाढ़ के बाद हरा एवं सूखा चारा की बढ़ी कीमतों को ध्यान में रखते हुए की जा रही है. इधर दूध उत्पादकों के लिए उनके लागत कीमत में बहुत वृद्धि हुई है, जिसके कारण पशुपालन में उनकी रूचि कम देखी जा रही है. ऐसे में ग्रामीण इलाकों के दूध उत्पादकों के लिए यह वृद्धि उनकी आय बढ़ाने में मदद करेगी.

नए रेट लागू होने से बिहार में गाय के दूध के लिए ओडिशा, झारखंड, पश्चिम बंगाल, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, तमिलनाडु, गुजरात, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र के दूध महासंघों की दर से ज्यादा हो जाएगा. इसी तरह भैंस के दूध के लिए हरियाणा, झारखंड, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश से ज्यादा हो जाएगा.

59total visits.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें