सिर्फ 2 लाख रुपये की लागत से मिल्क पार्लर खोलकर बनें आत्मनिर्भर, डेयरी विभाग की पहल

डेयरी टुडे नेटवर्क
हल्द्वानी, 11 अगस्त 2020,

कोरोना काल में बहुत से लोगों की नौकरियां छूटी हैं। लोग बेराजगार हुए हैं। रिवर्स माइग्रेशन तेजी से हुआ है। ऐसे में केन्द्र के साथ राज्य सरकारें भी जनहित काे ध्यान में रखकर योजनाएं बना रही हैं। ताकि लोगों को स्थानीय स्तर पर रोजगार मिल सिके। लोगों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में ही उत्तराखंड के डेयरी विभाग ने एक अच्छी पहल की है। इसके साथ आप मिल्क पार्लर खोलकर अपना काम शुरू कर सकते हैं। बस इसके लिए आपको कुछ नियम-और शर्तों को पूरा करना होगा। दैनिक जागरण की खबर के मुताबिक डेयरी विभाग की योजना प्रदेश भर में मिल्क पार्लर खोलने की है। इस योजना से जुड़कर लोग जहां आत्मनिर्भर बनें वहीं दूध की खपत बढ़ने से पशुपालकों को भी लाभ होगा।

मिल्क पार्लर आबादी के बीच होना चाहिए

कोरोना काल में नौकरी छूटने के बाद स्वारोजगार की ओर लोगों का रुझान बढ़ा है। उत्तराखंड के डेयरी विभाग ने लोगों को अपना काम शुरू करने का अवसर दिया है। इस योजना के तहत बेरोजगारों को डेयरी पार्लर खुलवाने में मदद की जाएगी। नैनीताल में दुग्ध संघ ने मिल्क पार्लर योजना के तहत शुरुआती तौर पर 50 पार्लर खोलने की योजना बनाई है। जबकि प्रदेश भर में कुल पांच सौ पार्लर खोलने की योजना है। हालांकि मिल्क पार्लर खोलने के लिए आवेदक के पास अपनी दुकान होनी जरूरी। यानी किराए की दुकान वाले को फ्रेंचाइजी नहीं दी जाएगी। इसके साथ ही दुकान आबादी के बीच होनी चाहिए। जिससे दुग्ध उत्पादों की खपत आसानी से हो सके। खपत बढ़ने के बाद विभाग पार्लरों की संख्या भी बढ़ाएगा।

 

ऐसे उठा सकते हैं योजना का लाभ

उत्तराखंड को-ऑपरेटिव डेयरी फेडरेशन यानी यूसीडीएफ प्रबंधक अदिति दमोगा ने बताया कि मिल्क पार्लर खोलने के कुछ शर्तों को पूरा करना अनिवार्य होगा। पार्लर खोलेने के लिए कुल दो लाख इंवेस्टमेंट करना होगा । जिसमें दुग्ध संघ द्वारा 20 प्रतिशत का अनुदान दिया जाएगा। जबकि एक लाख साठ हजार रुपए लोन हाे जाएगा। जिसको इएमआई दुकानदार को हर महीने किश्त के तौर पर 2700 रुपये सात वर्ष तक देनी होगी। हालांकि अभी तक जिले में जितने लोगों ने आवेदन किया है उनमें ज्यादातर लोग किराए की दुकान वाले हैं। ऐसे में अपनी दुकान वालों के पास बेहतर मौका है। यूसीडीएफ अधिकारियों का कहना है कि मिल्क पार्लर से लोग अच्छी-खासी कमाई कर सकते हैं।

मिल्क पार्लर में मिलेंगी ये सुविधाएं

मिल्क पार्लर में आंचल ब्रांड की दूध दही, पनीर, छाछ, मठ्ठा, रबड़ी आदि सामग्री मिलेगी। वहीं, स्वयं सहायता समूह को भी मिल्क पार्लर योजना से जोड़ा जा रहा है। जिससे एक ही छत के नीचे तमाम ज़रूरत की सामग्री लोगों को आसानी से मिल सकेगी। पार्लर की डिजाइन तैयार कराने का काम यूसीडीएफ ही कराएगा। अजय क्वीरा, सामान्य प्रबंधक, नैनीताल लालकुआं दुग्ध संघ ने बताया कि मिल्क पार्लर योजना के तहत मानक से अधिक आवेदन आ चुके हैं, लेकिन योजना का लाभ उन्हीं आवेदक को मिलेगा जिनके पास खुद की ज़मीन हो या खाली पड़ी दुकान। पार्लर खोलकर अच्छी-खासी आमदनी की जा सकती है।

मिल्क पार्लर लेने के लिए खास बातें

– खुद के पास 10/10 क्षेत्र में ज़मीन होनी चाहिए या ख़ाली पड़ी दुकान पर भी लोन मिल जाएगा
– घनी आबादी वाले क्षेत्र में ज़मीन होनी चाहिए
– दो लाख पर 20 फ़ीसद दुग्ध संघ छूट देगा
– हर महीने किश्त के तौर पर 2700 देना पड़ेगा
– सात साल के लिए दुग्ध संघ से अनुबंध होगा मिल्क पार्लर
– दुकानदार के डिमांड पर ही प्रोडक्ट की होगी सप्लाई
– नैनीताल जिले में अभी तक 57 आवेदन मिल चुके हैं दुग्ध संघ को
– प्रदेश भर में 500 मिल्क पार्लर खोलने का है लक्ष्य
– योजना की सफलता के अनुरूप इसका विस्तार किया जाएगा।
– पार्लर की डिजाइन तैयार कराने का काम यूसीडीएफ ही कराएगा
– पार्लर के अंदर के सामान मसलन फ्रिज वगैरह खरीदने के लिए भी यूसीडीएफ साठ फीसद अनुदान देगा।

(साभार-दैनिक जागरण)

Note:– कृपया इस खबर को अपने दोस्तों और डेयरी बिजनेस, Dairy Farm व एग्रीकल्चर सेक्टर से जुड़े लोगों के साथ शेयर जरूर करें..साथ ही डेयरी और कृषि क्षेत्र की हर हलचल से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज https://www.facebook.com/DAIRYTODAY/ पर लाइक अवश्य करें। हमें Twiter @DairyTodayIn पर Follow करें।

2581total visits.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें