असम में दुग्ध क्रांति के लिए राज्य सरकार और एनडीडीबी करेंगे संयुक्त कंपनी का गठन

डेयरी टुडे नेटवर्क,
गुवाहाटी, 13 सितंबर 2021,

पशुपालकों और डेयरी किसानों की आर्थिक तरक्की में तेजी लाने और डेयरी क्षेत्र को व्यावसायिक रूप से अधिक व्यवहारिक बनाने के प्रयास में मुख्यमंत्री डॉ हिमंत बिस्व सरमा ने सोमवार को सचिवालय स्थित अपने कार्यालय के सम्मेलन कक्ष में राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड (एनडीडीबी) के चेयरमैन मीनेश शाह और बोर्ड के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में राज्य में डेयरी क्षेत्र के विकास के लिए एनडीडीबी द्वारा उठाए गए प्रमुख कदमों पर चर्चा हुई।

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि राज्य सरकार और एनडीडीबी के संयुक्त समन्वय से एक संयुक्त कंपनी का गठन किया जाएगा, जो डेयरी क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए एक कार्य योजना तय कर उस पर काम करेगी। कंपनी के अध्यक्ष पशुपालन और पशु चिकित्सा मंत्री होंगे क्योंकि कंपनी का गठन राज्य सरकार और एनडीडीबी के बीच समान शेयर होल्डिंग पैटर्न के साथ किया जाएगा। मुख्यमंत्री डॉ सरमा ने पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विभाग को अक्टूबर तक कंपनी बनाने के सभी तौर-तरीकों को पूरा करने को कहा है ताकि कंपनी नवम्बर तक अपना काम शुरू कर सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश में दुग्ध क्रांति को नई गति देने के लिए कदम उठाए जाएंगे।


 
मुख्यमंत्री डॉ सरमा ने बैठक के दौरान विभाग को यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा कि डेयरी क्षेत्र में सुधार के परिणामस्वरूप दुग्ध किसानों को सबसे अधिक लाभांश मिले। उन्होंने कहा कि राज्य के दुग्ध उत्पादन को 10 लाख लीटर प्रतिदिन तक बढ़ाने के लिए पहले ही कदम उठाए जा चुके हैं। उन्होंने दूध के मूल्यवर्धन को एक नया प्रोत्साहन देने के लिए डेयरी प्रसंस्करण बुनियादी ढांचे को बढ़ाने पर भी जोर दिया।

बैठक में असम के पशुपालन एवं पशु चिकित्सा मंत्री अतुल बोरा, अपर मुख्य सचिव मनिंदर सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव समीर कुमार सिन्हा, एनडीडीबी के अध्यक्ष मीनेश शाह, क्षेत्रीय प्रमुख जिग्नेश शाह और पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

468total visits.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें