पशुधन और डेयरी सेक्टर के विकास के लिए राज्यों को केंद्र के साथ मिलकर चलना होगा: परषोत्तम रुपाला

डेयरी टुडे नेटवर्क,
नई दिल्ली, 7 सितंबर 2021,

केंद्रीय पशुधन और डेयरी मंत्री परषोत्तम रूपाला ने सोमवार को राज्यों के पशुधन व डेयरी मंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की। इसमें श्री रूपाला ने डेयरी विकास और पशुधन कल्याण से संबंधित केंद्र सरकार की विभिन्न योजनाओं के बारे में विस्तार से चर्चा की और राज्यों से इन्हें गंभीरता के साथ आगे बढ़ाने की अपील की। मीटिंग में उन्होंने कहा कि पशुधन व डेयरी क्षेत्र की वार्षिक विकास दर 8.5 फीसद से भी अधिक होने की वजह से इस क्षेत्र में विकास की ढेर सारी संभावनाएं हैं, जिसके वैज्ञानिक दोहन की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसा करने से किसानों और पशुपालकों की आमदनी में सुधार होगा और देश की अर्थव्यवस्था में तेजी आएगी। केंद्रीय मंत्री ने पशु चारा की आपूर्ति बढ़ाने और पशु चिकित्सा की हालत में तत्काल सुधार की जरूरत पर भी बल दिया है।

Read alsoअब बिना परेशानी के कर सकेंगे पशुओं की बीमारी का इलाज, बस यह मोबाइल एप करना होगा डाउनलोड

करीब पांच वर्ष बाद बुलाई गई इस बैठक में श्री रुपाला के साथ पशुधन और डेयरी मंत्रालय के राज्य मंत्रियों डा. संजीव बालियान और डा. एल. मुरुगन ने भी हिस्सा लिया। इस दौरान श्री रूपाला ने राज्यों से कहा कि इस सेक्टर के विकास के लिए राज्यों को केंद्र के साथ हाथ मिलाकर चलना होगा। श्री बालियान ने राज्यों से वेटनरी ढांचा क्षेत्र में तत्काल पहल की अपील की।

Read also:  सरकार ने डेयरी किसानों की सहायता के लिए ई-गोपाला ऐप का वेब संस्करण लॉन्च किया

केंद्रीय राज्य मंत्री श्री मुरुगन ने पशुधन व डेयरी उत्पादों की मांग में होने वाले वृद्धि का जिक्र करते हुए कहा कि यह क्षेत्र संभावनाओं से भरा हुआ है। इस दौरान मंत्रालय ने प्रजेंटेशन में पशु चिकित्सा के लिए मोबाइल वेटनरी क्लीनिक का प्रस्ताव रखा है। इसके माध्यम से 10 करोड़ पशुपालकों व किसानों तक पहुंचने की बात कही गई है। बैठक में केंद्रीय पशुधन और डेयरी सचिव अतुल चतुर्वेदी, संयुक्त सचिव वर्षा जोशी समेत मंत्रालय के तमाम बडे अधिकारी भी मौजूद रहे।

Read also: इस राज्य में गाय और भैंस खरीदने के लिए 75% तक सब्सिडी दे रही है सरकार, 20 सितम्बर तक आवेदन का मौका

336total visits.

One thought on “पशुधन और डेयरी सेक्टर के विकास के लिए राज्यों को केंद्र के साथ मिलकर चलना होगा: परषोत्तम रुपाला”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें