जानिए डेयरी किसान दयाराम दूध बेचने के अलावा करते हैं कौन सा काम, जिससे बढ़ती है इनकम

Share

नवीन अग्रवाल, डेयरी टुडे नेटवर्क,
नागौर (राजस्थान), 20 जून 2020,

डेयरी फार्मिंग और पशुपालन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं, लेकिन सफलता प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत और कुछ इनोवेशन बेहद जरूरी है। ‘डेयरी के सुल्तान’ में हमारी कोशिश ऐसे ही जुनूनी और इनोवेटिव डेयरी किसानों (Innovative Dairy Farmers) से आपको मिलाने की होती है, जो इस क्षेत्र में सफलता का परचम लहरा रहे हैं। इसी कड़ी में आज आपके सामने लेकर आए हैं राजस्थान के प्रोग्रेसिव और इनवोविट डेयरी किसान दयाराम मेघवाल (Dayaram Meghwal) की सक्सेस स्टोरी (Success Story)।

Read also: गिर गाय के डेयरी फार्म से लाखों की कमाई, प्रगतिशील किसान प्रतीक रावल की Success Story

आठ साल पहले आया व्यावसायिक डेयरी फार्मिंग का विचार

राजस्थान के नागौर जिले के अमरपुरा गांव में रहने वाले 35 वर्षीय प्रगतिशील डेयरी किसान (Progressive Dairy Farmer) दयाराम मेघवाल के घर में खेती-बाड़ी पुश्तैनी व्यवसाय है। दयाराम भी 12वीं तक पढ़ाई के बाद अपने खेतों में काम करने लगे और परिवार का हाथ बंटाने लगे। लेकिन राजस्थान जैसी जगह में खेती करना कोई आसान काम नहीं है। भीषण गर्मी और पानी की कमी से खेती से गुजर-बसर करना आसान नहीं है। ऐसे में करीब आठ साल पहले दयाराम के मन में व्यावसायिक डेयरी फार्मिंग (Professional Dairy Farming) करने का विचार आया।

Read also: शौक ने बनाया गुजरात के मोहम्मद कैफ को सफल डेयरी किसान, जानिए हर महीने कितनी है कमाई

खेती-किसानी से ज्यादा फायदेमंद है डेयरी फार्मिंग

डेयरी किसान दयाराम मेघवाल ने डेयरी टुडे (Dairy Today) से बातचीत के दौरान बताया कि खेती-किसानी की तुलना में पशुपालन का काम काफी आरामदायक है। एक तो डेयरी फार्मिंग (Dairy Farming) में सुबह और शाम के वक्त ही काम करना पड़ता है और इसमें धूप में काम करने की मजबूरी भी नहीं है, यानि छाया में काम कर सकते हैं। इसके अलावा खेती में फसल कैसी होगी इसका कुछ पता नहीं होता है, लेकिन डेयरी फार्मिंग में दूध बेच कर एक निश्चित आय हो सकती है। बस इन बातों को ध्यान में रखते हुए आठ साल पहले दयाराम मेघवाल ने डेयरी फार्मिंग का काम शुरू कर दिया।

Read also: Coca-Cola ने बाजार में उतारी मसाला छाछ, अब अमूल और मदर डेयरी को मिलेगी कड़ी टक्कर

डेयरी फार्म में हैं 25 मुर्रा नस्ल की भैंस और 5 गाय

बचपन से ही पशुपालन का शौक रखने वाले प्रोग्रेशिव डेयरी किसान दयाराम ने 2012 में बाबा रामदेव डेयरी फार्म (Baba Ramdev Dairy Farm) की शुरुआत मुर्रा नस्ल (Murra Breed) की दो भैंस के साथ की। इसके बाद वे धीरे-धीरे पशुओं की संख्या बढ़ाते गए। उन्होंने एनडीआरआई, करनाल (NDRI) से डेयरी फार्मिंग का प्रशिक्षण भी लिया है। आज उनके डेयरी फार्म में तीस पशु है, जिनमें 25 मुर्रा नस्ल की भैंस हैं और पांच गाय हैं। दयाराम ने बताया कि शुरुआत में उन्होंने सारा दूध सरस डेयरी को बेचा, लेकिन बाद में उन्होंने दूध मार्केट में और ढाबों-होटलों में बेचना शुरू कर दिया। इससे उनकी इनकम बढ़ गई। फिलहाल उके डेयरी फार्म पर 110 लीटर से ज्यादा दूध (Milk) होता है और 48 रुपये प्रति लीटर के रेट पर बिकता है। आर्डर मिलने पर दही और घी भी बनाकर बेचते हैं।

Read also: डेयरी संघों के पास जमा हुआ 10 हजार मीट्रिक टन घी, जल्द नहीं बिका तो हो जाएगा खराब

गाय-भैंस की खरीद बिक्री का काम भी करते हैं दयाराम

दयाराम मेघवाल ने बताया कि उन्होंने डेयरी फार्मिंग को सिर्फ दुग्ध उत्पादन (Milk Production) तक ही सीमित नहीं रखा, बल्कि उन्होंने गाय-भैंस की खरीद- बिक्री का भी काम शुरू कर दिया। आज आस-पास के इलाके में उनका इस बिजनेस में भी काफी नाम हो गया है। दयाराम ज्यादातर पंजाब और हरियाणा में ही पशुओं की खरीद-बिक्री (Animal Sale Purchase) करते हैं। दयाराम के मुताबिक वे महीने में आठ से दस पशुओं की खरीद-बिक्री भी कर लेते हैं और इससे उन्हें अच्छी-खासी इनकम हो जाती है।

Read also: युवा डेयरी किसान राहुल शर्मा की Success Story, हर महीने 80 हजार रुपये की कमाई!

दयाराम के पास है 5 लाख रुपये तक की मुर्रा भैंस

दयाराम के मुताबिक खेतीबाड़ी के साथ डेयरी फार्मिंग और पशुओं की सेल-परचेज से उन्हें काफी फायदा हो जाता है। हालांकि अभी कोरोना महामारी की वजह से इस काम में थोड़ी कमी आई है। दयाराम अपनी पत्नी का साथ मिलकर पशुओं की देखभाल करते हैं और मिल्किंग भी करते हैं। दयाराम का कहना है कि हमारी भैंसे हमारा ब्लैक गोल्ड हैं। दयाराम के डेयरी फार्म पर दो-ढाई लाख रुपये से पांच लाख रुपये तक की मुर्रा नस्ल की भैंस हैं। दयाराम को कई पशुमेलों में अपनी तंदरुस्त भैंसों के लिए पुरस्कार भी मिल चुका है।

Read also: आईटी की नौकरी छोड़ खोला Dairy Farm, दिल्ली-NCR में इनकी गीर गायों के A2 Milk की है जबरदस्त मांग

डेयरी फार्मिंग के कार्य में काफी अनुभवी हो चुके दयाराम के मुताबिक आगे चलकर वे पशुओं की संख्या बढ़ाकर दुग्ध उत्पादन को बढ़ाना चाहते हैं। उनका कहा है कि ग्रामीण इलाकों में खेती के साथ पेशेवर डेयरी फार्मिंग करने से काफी फायदा होता है। जाहिर है कि प्रगतिशील डेयरी किसान दयाराम मेघवाल का ये मंत्र इस व्यवसाय में लगे लोगों को काफी फायदा पहुंचा सकता है।

Read also: ‘Amul दूध पीता है इंडिया’ के बाद अब ‘अमूल आटा खाता है इंडिया’ की बारी

Note:– कृपया इस खबर को अपने दोस्तों और डेयरी बिजनेस, Dairy Farm व एग्रीकल्चर सेक्टर से जुड़े लोगों के साथ शेयर जरूर करें..साथ ही डेयरी और कृषि क्षेत्र की हर हलचल से अपडेट रहने के लिए हमारे फेसबुक पेज https://www.facebook.com/DAIRYTODAY/ पर लाइक अवश्य करें। हमें Twiter @DairyTodayIn पर Follow करें।

Share

2175total visits.

13 thoughts on “जानिए डेयरी किसान दयाराम दूध बेचने के अलावा करते हैं कौन सा काम, जिससे बढ़ती है इनकम”

    1. Sir bahut ache,aap bahut progress paye ,sir hmne bhi super white+ washing powder Ka kam shuru kiya h,agr kisi bhai ko apna business start krna h to holesale rate pe hmse le skta h,pls contact kre 7059700010

  1. बहुत ही बढ़िया दयाराम जी,
    आपका नम्बर शेयर करें, भेंस खरीदने के लिए जिस पर बात हो सके।।
    आपका काम बहुत ही शानदार है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

लोकप्रिय खबरें